आयुष्मान भारत योजना (ABY)

कौन सी बीमारियां होंगी कवर? जानिए आयुष्मान भारत योजना (ABY)

सरकारी योजनायें सुर्खियाँ

मोदीकेयर के नाम से मशहूर आयुष्मान भारत योजना (ABY)  सितंबर से शुरू हो गयी है . केंद्र सरकार इस योजना के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करा रही है. इस योजना को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PM-JAY) भी कहा जाता है. यह वास्तव में हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘प्रधानमंत्री जन आरोग्य’ (PM-JAY) योजना की घोषणा की है. इसे पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर 25 सितंबर से देशभर में लागू कर दिया गया है|

आयुष्मान भारत योजना (ABY) के तहत देश के 10 करोड़ गरीब परिवार के करीब 50 करोड़ लोगों को 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य सुरक्षा कवर दिया जायेगा.

आइए जानते हैं, आयुष्मान भारत योजना (ABY या PM-JAY) से किसे फायदा मिलेगा:

कौन-कौन सी बीमारियां होंगी PM-JAY में शामिल?
आयुष्मान भारत योजना  में प्रति परिवार हर साल 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा.
मोदीकेयर (PM-JAY) में पुरानी बीमारियों को भी कवर किया जाएगा.
किसी बीमारी की स्थिति में अस्पताल में एडमिट होने से पहले और बाद के खर्च भी कवर किये जाएंगे. PM-JAYमें ट्रांसपोर्ट पर होने वाला खर्च भी शामिल है.
किसी बीमारी की स्थिति में सभी मेडिकल जांच/ऑपरेशन/इलाज आदि PM-JAYके तहत कवर होंगे|

कौन ले सकता है आयुष्मान भारत योजना का लाभ?
देश के 10.74 करोड़ परिवार PM-JAYका लाभ ले सकेंगे.
इन परिवार की पहचान गरीब और सुविधाओं से वंचित लोगों के तौर पर हुई है.
आयुष्मान भारत योजना  का लाभ लेने के लिए सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना के आंकड़ों का इस्तेमाल होगा
PM-JAY का लाभ लेने के लिए परिवार के आकार या उम्र की कोई सीमा तय नहीं की गई है|

आयुष्मान भारत योजना  का लाभ कैसे लें?

स्वास्थ्य बीमा के पैनल में शामिल किसी भी अस्पताल से बिना पैसे दिए (कैशलेस) इलाज होगा. योजना के तहत कसौटी पर खरे उतरने वाले निजी अस्पताल ऑनलाइन पैनल में रखे जाएंगे के तहत देश के किसी भी अस्पताल में इलाज कराया जा सकता है आयुष्मान भारत योजना  के लिए नीति आयोग कैशलेस या पेपरलेस इलाज के लिए आईटी फ्रेमवर्क विकसित करेगा |

आयुष्मान भारत योजना  पर कैसे होगा अमल?

राष्ट्रीय स्तर पर आयुष्मान भारत योजना को राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन देखेगी राज्य स्तर पर PM-JAYकी जिम्मेदारी प्रदेश सुरक्षा एजेंसी के पास होगी|


PM-JAY पर खर्च होने वाली रकम कहां से आएगी?
आयुष्मान भारत योजना  पर आने वाली लागत राज्य और केंद्र सरकार आपस में बांटेंगी.
PM-JAY में राज्य की हिस्सेदारी जरूरी है.
राज्य की स्वास्थ्य एजेंसी को केंद्र सरकार एसक्रो अकाउंट से सीधे पैसे भेजेगी.
PM-JAY की अनुमानित लागत 12 हजार करोड़ रुपये है|

PM-JAY से क्या होगा फायदा?
देश में वंचित तबके के लोगों के लिए PM-JAY बहुत उपयोगी कदम साबित हो सकता है. सरकार का मानना है कि पांच लाख रुपये तक की हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम से देश की बड़ी आबादी की स्वास्थ्य समस्या दूर करने में मदद मिल सकती है|



Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.