मूँग की खरीदी

प्रदेश में मूँग की खरीदी 15 जून से होगी प्रारंभ : मुख्यमंत्री श्री चौहान

सुर्खियाँ

किसानों को उपज का उचित मूल्य दिलाया जाएगा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा प्रदेश में किसानों से मूँग की खरीदी 15 जून से प्रारंभ होगी। किसान भाई 8 जून से अपना पंजीयन करा सकेंगे। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मार्ग दर्शन में भारत सरकार के सहयोग से ग्रीष्मकालीन मूँग की खरीदी समर्थन मूल्य पर की जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अन्नदाता का हित मेरे लिए सर्वोपरि है। मूँग की गिरती कीमतों से किसान चिंतित न हों। किसान की उपज का उचित मूल्य दिलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों के हित में यह भी निर्णय लिया गया है कि चने की खरीदी की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 15 जून कर दिया गया है।

समर्थन मूल्य घोषित

भारत सरकार द्वारा मध्यप्रदेश के लिए मूँग की खरीदी का लक्ष्य और समर्थन मूल्य निर्धारित किया गया है। मूँग का समर्थन मूल्य 7196 रूपये प्रति क्विटंल निर्धारित किया गया है। 

कृषकों को लाभान्वित करने के लिये कृतसंकल्पित शिवराज सरकार : मंत्री श्री पटेल

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने समर्थन मूल्य पर ग्रीष्मकालीन मूँग की खरीदी करने पर प्रदेश के किसानों की ओर से आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि कृषकों की आय को दोगुना करने और कृषकों को हर तरह से लाभान्वित करने के लिये प्रदेश की शिवराज सरकार कृतसंकल्पित है।

मंत्री श्री पटेल ने बताया है कि प्रदेश में 4.77 लाख हेक्टेयर में ग्रीष्मकालीन मूँग की फसल की बोवनी की गई है, जिससे 6.56 लाख मीट्रिक टन मूँग का उत्पादन होना संभावित है। उन्होंने कहा कि किसानों को सिंचाई के लिये विभिन्न माध्यमों से भरपूर पानी उपलब्ध कराने के प्रयास किये गये, जिससे की बेहतर फसल उत्पादन हो सके। प्रदेश के मुखिया श्री शिवराज सिंह चौहान के मार्गदर्शन में सतत प्रयास करने के बाद प्रदेश में समर्थन मूल्य पर मूँग के उपार्जन की अनुमति भारत सरकार से प्राप्त हो गई है। उपार्जन के लिये भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ (नाफेड) को केन्द्रीय एजेंसी घोषित किया गया है। ग्रीष्मकालीन मूँग की खरीदी के लिये पंजीयन का कार्य 8 जून से प्रारंभ किया जा रहा है और 15 जून से मूँग की खरीदी प्रारंभ होगी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.