dhaniya ki kheti

धनिया कैसे उगाएं | धनिया उत्पादन की उन्नत तकनीक

खरीफ फसल रबी फसल

धनिया (Coriandrum sativum) एक गहरे हरे रंग की पत्तियां हैं जो एशियाई और लैटिन व्यंजनों में जायका बड़ाने के लिए ताजा काटकर उपयोग किया जाता है। यह कोरिएन्डर या चाइनीज़ पार्सले के नाम से भी जाना जाता है। धनिया विकसित करना कठिन नहीं है, इस के बीज को मिट्टी और बर्तन में लगाया जा सकता है।

धनिया उगाने के लिए सबसे अच्छा समय इस बात पर निर्भर करता है की आप रहते कहाँ हैं । धनिया न तो बहुत अधिक ठण्ड सहन कर सकता है न ही बहुत अधिक गर्मी। धनिया प्लांटिंग शुरू करने के लिए सबसे अच्छा समय मार्च और मई के महीने के बीच, आखिरी वसंत ऋतु में होता है! धनिया शुष्क समय के दौरान बेहतर विकसित होता है।

जब मौसम बहुत गर्म होता है, धनिया के पौधों में बीज का निर्माण होने लगता है इसलिए आप सही समय और वर्ष चुनें।

धनिया को सूर्य की रोशनी मिल सके ऐसी मिट्टी के एक पैच का चयन करें! यह सूर्य दिन के दौरान बहुत गर्म हो जाता है, जहां दक्षिण क्षेत्रों में कुछ छाया बर्दाश्त नहीं करते! मिट्टी को अच्छी तरह से सूखा और 6.2 to 6.8. PH वाला होना चाहिए।[१]
आप बोने से पहले भूमि पर खेती करना चाहते हैं, काम करने के लिए 2 to 3 इंच (5.1 to 7.6 cm) का एक फावड़ा, rototiller या कुदाल का उपयोग करे। ऐसे में खाद, सड़े पत्ते या खाद के रूप में एक कार्बनिक गीली घास की मिट्टी के ऊपर रहगे! बोने से पहले चिकनी क्षेत्र करले|

धनिया के बीज को लगाएं: बीजों को 1⁄4 इंच (0.6 cm)गहरे, 6 to 8 इंच (15.2 to 20.3 cm) दूर लगभग 1 फुट (0.3 m) के अंतर वाली लाइन में उगाएं। धनिया के बीज अंकुरित होते है, इसलिए उन्हें बार बार पानी की बहुत जरुरत होती है । इन्हे प्रति सप्ताह एक इंच पानी की जरुरत होती है। 2 से 3 सप्ताह में अंकुरित होना चाहिए।[२]
धनिया इतनी जल्दी बढ़ता है, क्या आप बढ़ती मौसम के दौरान धनिया की एक ताजा आपूर्ति होती है कि यह बीज हर 2 से 3 सप्ताह के एक नए बैच संयंत्र हो जाते है।

धनिया की देखभाल: एक बार जब अंकुर की ऊँचाई 1 cm तक पहुच जाये, तब आप पानी में घुलनशील नाइट्रोजन उर्वरक की खाद डाल दे! इस बात का ध्यान रखे की खाद की मात्रा सीमित हो, 25 फीट (7.7 मी) तक के पोधे के लिए केबल ¼ कप ही खाद की जरूरत है।
एक बार जब आप की औषधि स्थापित हो जाता है तो बहुत ज्यादा पानी की जरूरत नहीं है। पर पोधे मै नमी बनी रहे लेकिन गीला ना हो इस बात का ध्यान रखे क्योकि धनिया एक शुष्क जलवाऊ की औषधि है|

अत्यधिक मात्रा रोके: जब तक धनिया 2 से 3 इंच तक लंबे ना हो जाये तब तक ये ध्यान रखे की धनिया अत्याधिक मात्रा में पास पास ना लगे हो। जो छोटे पौधे है उनको उखाड़ दें ओर जो पोधे लंबे है उनके बीच 8 से 10 इंच की जगह छोड़ दे । जो प्लांट छोटे है उनका इस्तेमाल पकाने या खाने मै कर ले।[४]
आसपास ऊगने वाली घास जैसे ही दिखना शुरू हो उसे काट कर फेंक दें।

धनिया

धनिया की छंटाई करें: जब धनिया के तने 4 to 6 इंच (10.2 to 15.2 cm) लम्बे हो जायें तो नीचे से छोटी पत्तियां और तने काट कर उसकी छंटाई करें। पकाते समय हमेशा नए और ताज़े पत्तों का इस्तेमाल करें।[१]
एक बार मैं एक तिहाई से ज्यादा पत्तियां न काटें क्योंकि यह पौधे को कमज़ोर बनाते हैं।
एक बार जब पत्तियों की छंटाई हो जाये तो पौधा अगले कुछ महीनों के लिए लगातार बढ़ता रहता है।

यह निश्चित कीजिये की आपको धनिया के पौधे में फूल चाहिए: जल्दी या देर से धनिया के पौधे में फूल आना शुरू हो जाते हैं, और जब ऐसा होता है तो पौधे में ताज़ी पत्तियां आना बंद हो जाती हैं। इस समय कुछ लोग इस उम्मीद में फूल तोड़ देते हैं कि और नई पत्तियां आएँगी।

  • हालाँकि अगर आप आगे भी धनिये की खेती करना चाहते हैं तो आपको इन फूलों को नहीं तोडना चाहिए।
  • या फिर आप इन बीजों को प्राकृतिक रूप से जमीन पर गिरने दें जिससे वहां अपने आप ही नए धनिये के पौधे ऊग आएंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.