किसान हड़ताल

बजट दिखावा है मध्यप्रदेश का। किसान खाली हाथ

कृषि फसलें कृषि लेख कृषि व्यापार विविध लेख सुर्खियाँ

बजट दिखावा है मध्यप्रदेश का। किसान खाली हाथ

फिर 7वां वेतन आयोग(कर्मचारियों के मजे )

किसानों को सैलरी पर रख कर खेती करवाना चाहिये सरकार को।

किसान की अरहर दाल के रेट गिरा कर गरीबों को मुफ्त बांटो आलु 1 रु किलो भी नही बिक रहा टमाटर रोड पर आ गया । फसल के दाम नही बड़े पैदावार बढ़ा कर फसल को खेत से उठाना महंगा हो गया। जितनी योजना आई उसमे अधिकारी का 30% तो पक्का है । किसान को व्यक्तिगत लाभ कुछ नही ।

किसानों के फसल के दाम नही बढ़ा सकती सरकार तो कर्मचारियों का वेतन क्यों बढाती है ?

किसान गरीब और अमीर दो वर्ग के बीच मे पिस रहा है । कर्मचारियों के वेतन में आए दिन वृद्धि कर देती है सरकार और गरीबों को घर बिठाकर खिला रही है । जो मेहनत करता है उसके नाम पर सरकार अवार्ड ले लेती है और उसके फसल के दाम की कोई बात नही करता । किसानों को भीख मे कभी 100 रुपए प्रति क्विंटल बोनस कभी कर्ज माफ। ये सब करने से पहले इनकी वसुली के रास्ते पहले ही तैयार कर लेते है सरकारी मुलाजिम । बाल बच्चे तो किसानों के भी है बीमार तो वो भी होते है अच्छे स्कूल मे पढ़ने का मन उनका भी है । महंगाई की मार तो वो भी झेलता है ।
5 वर्ष मे 3 वर्ष ऊपर वाला कहता है मेरा हिस्सा मुझे दो बाकी के 2 वर्ष मे नीचे वाले कहते है कृषि कर्मण अवार्ड मिला है हमारे कारण से हम न 1 है । किसान का क्या ?

घनश्याम सिंह चंद्रवंशी
अ.भा ग्राहक पंचायत

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.