soyabean

सोयाबीन कृषकों के लिए उपयोगी सलाह Advisory for Soybean Farmers

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए बरती जाने वाली सावधानियां: खेत संचालन करते समय, नहीं 4 से अधिक व्यक्तियों को इकट्ठा करें और लगभग 1 मीटर की सामाजिक दूरी सुनिश्चित करें। व्यक्तियों या मजदूरों को सलाह दें सर्दी, खांसी, बुखार जैसे लक्षणों के लिए चिकित्सा उपचार लें। खेत संचालन करते समय, कृपया सुरक्षात्मक मास्क का […]

Continue Reading
paddy farming

धान की खेती कैसे करे धान की खेती की संपूर्ण जानकारी

धान की फसल में महावार महत्वपूर्ण कार्य बिन्दु – नर्सरी डालना : मई १ पंत-४ सरजू-५२ आई.आर.-३६ नरेन्द्र ३५९ आदि।२ धान के बीज शोधन बीज को १२ घन्टे पानी मे भिगोकर तथा सुखाकर नर्सरी में बोना। जून १ धान की नर्सरी डालना। सुगन्धित प्रजातियां शीघ्र पकने वाली।२ नर्सरी में खैरा रोग लगने पर जिंक सल्फेट […]

Continue Reading

फरवरी – मार्च में करें इन सब्जियों की बुवाई होगा अच्छा मुनाफा

फरवरी महीने से जायद की फसलों की बुवाई का समय शुरू है। इन फसलों की बुवाई मार्च तक चलती है। इस समय बोने पर ये फसलें अच्छी पैदावार देती हैं। इस मौसम में खीरा, ककड़ी, करेला, लौकी, तोरई, पेठा, पालक, फूलगोभी, बैंगन, भिण्‍डी, अरबी जैसी सब्ज़ियों की बुवाई करनी चाहिए। खीरा : खीरे की खेती […]

Continue Reading

नींबू वर्गीय बागों में पोषक तत्वों की कमी के लक्षण एवं उनके निदान के उपाय

नींबू वर्गीय बागों लेमन, माल्टा, संतरा, नींबू और मौसमी आदि में पोषक तत्वों (खाद और उर्वरक) का प्रयोग संस्तुतियों के आधार पर करना चाहिए| नींबू वर्गीय बागों में प्रयोग की जाने वाली पोषक तत्वों की मात्रा मिटटी की किस्म, उर्वरता, अंतरवर्ती फसल और उसमें की गई कृषि-क्रियाएँ एवं नींबू वर्ग की उगाई जाने वाली किस्म, […]

Continue Reading
makka

कीट प्रबंधन – मक्का

कीट कॉलाम्बा लिविया प्रचलित नाम ब्लू कॉक पीजन पैराकीट क्रो क्षति आई.पी. एम नियंत्रण कीट रोपालोसिफम माइडिस प्रचलित नाम माहू क्षति आई.पी. एम नियंत्रण कीट चिलो पारटुलस प्रचलित नाम धारीदार तना छेदक कीट क्षति आई.पी. एम नियंत्रण कीट सेसेमिया इनफेरेन्स प्रचलित नाम गुलाबी तना छेदक क्षति आई.पी. एम नियंत्रण कीट पल्यूशिया एक्यूटा प्रचलित नाम पल्यूशिया […]

Continue Reading
soyabean keet rog

कीट प्रबंधन – सोयाबीन

कीट प्रबंधन – सोयाबीन कीट मेलेनाग्रोमाईज़ा सोजे प्रचलित नाम तना मक्खी क्षति आई.पी. एम. नियंत्रण कीट लेप्रोसिमा इडिकेटा प्रचलित नाम पत्ता मोडक ( लीफ फोल्डर ) क्षति आई.पी. एम. नियंत्रण कीट डेक्टीस टेकसान्स टेकसान्स प्रचलित नाम तनाछेदक क्षति आई.पी. एम. नियंत्रण कीट स्पोडोपेटरा लिटुरा प्रचलित नाम तम्बाखू इल्ली क्षति आई.पी. एम. नियंत्रण कीट एफिड प्रचलित […]

Continue Reading
रोग प्रबंधन - सिंचित धान

रोग प्रबंधन – सिंचित धान

माहू (फुदका) धान की फसल पर भूरा माहू, सफेद पीठ वाला माहू तथा हरा माहू का प्रकोप देखा जाता है। यह कीट पौधों से रस को चूसते है जिससें पौधों की वृद्धि तथा विकास प्रभावित होता है। भूरा माहू, धान के तने के निचले भाग में, पानी की सतह के उपर मौजूद रहकर पौधें से […]

Continue Reading
कीट प्रबंधन - सिचित धान

कीट प्रबंधन – सिंचित धान

कीट – ट्राईपोराइज़ा इंसर्टुलस प्रचलित नाम – तना छेदक क्षति आई.पी. एम कीट अवरोधी प्रजातियों जैसे रत्ना,जयश्री, दीप्ती, साकेत, विकास इत्यादि की बुआई करें। नत्रजन युक्त उर्वरकों का उचित व संतुलित मात्रा में उपयोगकरें। कीट नियंत्रण अपनाए। गर्मी में गहरी जुताई करें। समय से पूर्व या समय पर रोपाई/बुआई करें। स्वस्थ नर्सरी का विकास करें […]

Continue Reading

कैसे करें आम की खेती

परिचय भारतवर्ष का सर्वसुलभ एवं लगभग हर प्रान्त में आसानी से उगाया जा सकने वाला फल आम हैं। इसके स्वाद, सुवास एवं रंग-रूप के कारण इसे फलों का राजा कहा जाता हैं। उत्पादन एवं क्षेत्रफल दोनों की दृष्टि से आम भारत का प्रमुख फल है। विश्व के कुल आम उत्पादन का लगभग 43.4 प्रतिशत भाग […]

Continue Reading

मूंग की उन्नत खेती

मूंग ग्रीष्म एवं खरीफ दोनो मौसम की कम समय में पकने वाली एक मुख्य दलहनी फसल है। इसके दाने का प्रयोग मुख्य रूप से दाल के लिये किया जाता हैजिसमें 24-26% प्रोटीन,55-60% कार्बोहाइड्रेट एवं 1.3%वसा होता है। दलहनी फसल होने के कारण इसकी जड़ो में गठाने पाई जाती है जो कि वायुमण्डलीय नत्रजन का मृदा […]

Continue Reading